Today,

विकास रोज़गार नहीं अब भाजपा चौकीदार पर लड़ेगी चुनाव !

17 Mar 2019

सूचना न्यूज़ एप्प प्ले स्टोर पर उपलब्ध है जिस पर आप खबरों को पढ़ सकते हैं।

भारतीय जनता पार्टी अपने खिलाफ विपक्ष के तरकश से निकले किसी भी तीर को बेकार नहीं जाने दे रहा है। रॉफेल फ़ाइल ग़ायब होने की बात अदालत में आते ही विपक्ष ने "चौकीदार ही चोर है" के नारे को जमकर उछाला था लेकिन भाजपा ने उसी चौकीदार को अब अपना हथियार बना लिया है तथा साथ ही साथ चौकीदार शब्द को लेकर राजनीतिक हलचलें भी तेज हो गई हैं। राहुल गांधी ही नहीं मायावती व अखिलेश यादव भी खामोश नहीं रह सके।

भाजपा आईटी सेल द्वारा "मैं भी चौकीदार" मिशन की शुरुआत कर सोशल मीडिया एकाउन्ट को बदलने का निर्देश दिया गया है जिसके कारण भाजपा से जुड़े नेता व कार्यकर्ताओं ने अपने अकाउंट का नाम बदलना शुरू कर दिया है।
पुलवामा आतंकी हमला के बाद पाकिस्तान के खिलाफ सख़्त तेवर अपनाने को भारतीय जनता पार्टी की आईटी सेल ने जमकर प्रचार प्रसार किया और ऐसा माना जा रहा था कि इसी को आधार बना कर लोकसभा 2019 का चुनाव भाजपा लड़ेगी लेकिन विगत तीन चार दिनों से भाजपा आईटी सेल ने जिस तरह से सोशल मीडिया पर "मैं भी चौकीदार" के नारे को प्रमुखता दी है उससे स्पष्ट हो रहा है कि इस बार भाजपा मंदिर-मस्जिद प्रकरण सहित पुलवामा आतंकी हमला, गंगा सफाई, विकास, रोजगार आदि पर नहीं बल्कि 'चौकीदार' के नारे पर कार्यकर्ताओं को एक जुट करेगी। सोशल मीडिया विशेष कर ट्विटर को जब जांचने का प्रयास किया गया तो जो नज़र आया उसे जान कर आप हैरान रह जाएंगे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ही नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित अम्बेडकरनगर सांसद डॉक्टर हरिओम पाण्डेय, अयोध्या सांसद लल्लू सिंह ने भी अपने ट्विटर एकाउंट में अपने नाम के आगे चौकीदार जोड़ लिया है।

चौकीदार नाम पर भाजपा का प्रचार लेकिन---
चौकीदार के नाम पर जहाँ सोशल मीडिया पर भाजपा अपना प्रचार कर रही है वहीं अपने पदों को यथावत रख कर आदर्श आचार संहिता की जमकर खिल्ली भी उड़ाई जा रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जहाँ आदर्श चुनाव संहिता का पालन करते हुए अपने ऑफिसियल एकाउंट का नाम बदल कर CM Office, Go UP करते हुए अपना फ़ोटो भी हटा लिया है वहीं प्रधानमंत्री के ऑफिसियल एकाउंट पर अभी भी नरेंद्र मोदी का फोटो लगा हुआ है। यही नहीं प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, वित्त मंत्री, मुख्यमंत्री सहित कई मंत्रियों व सांसदों ने अपने पर्सनल अकाउंटों पर अपने नामों के आगे चौकीदार तो जोड़ दिया है लेकिन अभी भी अपना पदनाम नहीं हटाया है जो आदर्श आचार संहिता का खुला उलंघन है जिस पर भारत निर्वाचन आयोग पूरी तरह से खामोश है।
अखिलेश यादव ने किया कटाक्ष--
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने ट्वीट एकाउंट पर पोस्ट लिखर भाजपा को चौकीदार की मार्केटिंग करने तथा किसानों का अनादर बताया। उन्होंने लिखा कि "सोशल मीडिया पर ख़ुद को चौकीदार कहना आसान है। पर कोई उन युवाओं की आवाज़ भी सुने जो नौकरी न मिलने की वजह से चौकीदारी करते हैं। “मैं भी चौकीदार’’ की मार्केटिंग उन किसानों का भी अनादर है जो रात भर जाग कर अपने खेत बचाने पर मजबूर हो गए। देश को प्रचार मंत्री नहीं नया प्रधानमंत्री चाहिए।"
बसपा सुप्रीमों ने भी दी प्रतिक्रिया---
बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने भी अपने ट्वीट पर 'मैं भी चौकीदार" पर खामोश नहीं रहीं। उन्होंने लिखा कि "मोदी बोले-हर भारतीय कह रहा है मैं भी चैकीदार, आज अखबारों की चर्चित खबर है। राफेल रक्षा सौदे में संसद में व बाहर कांग्रेस के बोफोर्स की तरह ही फंसे पीएम श्री मोदी का यह पहला चुनावी कम्पेन साबित करता है कि बीजेपी कितनी ज्यादा भयभीत है जो विनाशकाले विपरीत बुद्धि की मिसाल है।"
राहुल गाँधी ने कहा कि मोदी दोषी महसूस कर रहे हैं---
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने 'मैं भी चौकीदार' लिखी हुई नरेंद्र मोदी की फ़ोटो ट्वीट किया तथा लिखा कि "रक्षात्मक ट्वीट मोदी जी!
आज आप थोड़ा दोषी महसूस कर रहे हैं ?"।



अन्य खबर