Today,

विश्व प्रख्यात ईरानी शिया धर्मगुरु ने हिन्दुस्तान की जमकर किया तारीफ

26 Mar 2018

कटौना में आयोजित हुई भव्य मजलिस

अम्बेडकरनगर:आज पूरे विश्व में जहाँ जाति, धर्म, रंग, भेद एक बड़ी गंभीर समस्या बनकर सामने आ रही है, वहीं पूरी दुनिया में हिंदुस्तान ही एक ऐसा देश है जहां सभी धर्म समुदाय के लोग एक साथ मिलजुल कर रहते हैं और यहां पर किसी तरह का भेदभाव भी नहीं नज़र आता है जो वास्तव में इंसानियत का धर्म है।

उक्त बातें विश्व स्तरीय शिया धर्मगुरु मौलाना आयतुल्लाह खामनाई के भारतीय प्रतिनिधि मौलाना मेहंदी मेंहदावीपुर (ईरान) ने फारसी भाषा में भव्य मजलिस को संबोधित करते हुए कहा। अंजुमन यादगार हुसैनी रजिस्टर कटौना द्वारा आयोजित भव्य मजलिस में श्री मेंहदी के फारसी भाषा का हिंदी अनुवाद भी किया गया। मजलिस के माध्यम से राष्ट्रीय एकता व इंसानियत के धर्म को मजबूत बनाने का प्रयास किया गया। ईरान से आए मौलाना मेंहदी ने भारत की खुल कर तारीफें किया। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान पूरी दुनिया मे सबसे अलग और सुंदर देश है जहां अनेकता में भी एकता है। 
अताये मौला ट्रस्ट के अध्यक्ष मौलाना अली अब्बास वफ़ा द्वारा भव्य मजलिस सजाई गई थी तथा अताये मौला ट्रस्ट द्वारा लकी ड्रा के माध्यम से पांच लोगों को कर्बला की ज़ियारत का अवसर दिया गया जिसमें सैय्यद नाज़ आलम, सैय्यद कमर अब्बास, सैय्यद मो.अम्मार, नसरीन फातिमा दहियावर, मो.मेंहदी पकड़ी शामिल हैं। 
विश्व प्रख्यात ईरानी मौलाना मेंहदी ने पूर्व मंत्री राममूर्ति वर्मा, सामाजिक संस्था हेल्प प्वाइंट के अध्यक्ष आलम खान, जगन्नाथ प्रधान, मोहनलाल, पंख संस्था अध्यक्ष अंशु बग्गा, दिवाकर वर्मा, जिला अस्पताल कर्मी अली अब्बास, नूर आलम, अहमद मेंहदी, बाकर मूसा, दानिश मेंहदी आदि को अंगवस्त्र भेंट कर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के अंत में अताये मौला व अंजुमन यादगारे हुसैनी ने संयुक्त रूप से सभी अतिथियों व श्रद्धालुओं का धन्यवाद ज्ञापित किया। उक्त कार्यक्रम को सफल बनाने में पूरा कटौना गाँव लगा हुआ था तथा श्रद्धालुओं के लिए नज़रे मौला (भोजन) की व्यवस्था की गई थी। श्रद्धालुओं में महिलाओं की भी काफी भागीदारी रही। 

बहरहाल मजलिस के बहाने राष्ट्रीय एकता व आपसी सौहार्द को मजबूत बनाने का सराहनीय प्रयास किया गया जिसमें ईरान से आये  धर्मगुरु ने हिंदुस्तान की खुल कर तारीफें किया।



अन्य खबर