Today,

ये हैं तत्‍काल टिकट बुकिंग और कैंसिलेशन रूल्स, आपके लिए जानना जरूरी

13 Sep 2017

भारतीय रेलवे

नई दिल्‍ली।आमतौर पर फेस्टिव सीजन में अधिकांश लोग त्‍यौहार मनाने अपने घर जाते हैं। लेकिन,ऐसे मौकों पर ट्रेन से सफर करने के लिए कन्‍फर्म टिकट लेनाबहुत ही मुश्किल भरा होता है। फेस्टिव सीजन में ट्रेनों से सफर के लिए अधिकांश पैसेंजर्स तत्‍काल टिकट बुक कराते हैं, लेकिन टिकट कन्‍फर्म नहीं होने पर कैंसिलेशन,रिफंड संबंधी परेशानी लोगों को होती है।

यहां हम तत्‍काल टिकट बुकिंग, कैंसिलेसन और रिफंड के रूल्‍स के बारे में बता रहें हैं,ताकि आप टिकट बुक कराने,कैंसिल कराने और रिफंड लेने में होने वाली परेशानी से बच सकें। आइए जानते हैंरेलवे के तत्‍काल टिकट बुकिंग रूल्‍स से आपको क्‍या है फयादा और नुकसान….
नोट:-आईआरसीटीसी के जरिए रेलवे ऑनलाइन टिकट बुकिंग की सुविधा पैसेंजर्स को देती है जिसके जरिए रोजाना कुछ ही मिनटों में करीब 1.30 लाख टिकटें बुक होती है। तत्‍काल टिकट की बुकिंग आप सफर से एक दिन पहले करा सकते हैं। तत्‍काल टिकट आप ऑनलाइन और रेलवे रिजर्वेशन काउंटर से भी ले सकते हैं।
तत्‍काल टिकट की बुकिंग आप सफर करने से एक दिन पहले करा सकते हैं। एसी क्‍लास के टिकट की बुकिंग का समय 10 बजे सुबह से और नॉन एसी क्‍लास के लिए बुकिंग का समय 11 बजे से होता है। 
तत्‍काल टिकट बुकिंग के अभी जो नियम लागू हैं, उसके मुताबिक कन्‍फर्म तत्‍काल टिकट बुकिंग के बाद कैंसिल कराने पर रेलवे कोई रिफंड नहीं देता है।
तत्‍काल टिकट वेटिंग का हो और फाइनल चार्ट निकलने पर भी आपका टिकट आरएसी और वेटिंग रह जाता है, तो आप रिफंड ले सकते हैं। आपको ये रिफंड ट्रेन के चलने से 30 मिनट पहले न्यूनतम शुल्क काटकर रेलवे रिफंड करेगी।
यदि अपने निर्धारित अवधि से ट्रेन तीन घंटा लेट है, तो आपको कंफर्म, आरएसी और वेटिंग तत्‍काल टिकट का पूरा किराया बिना कोई शुल्‍क काटे वापस किया जाएगा।
पैसेंजर्स की सुविधा के लिए रेलवे ने तत्काल टिकट के लिए पे ऑन डिलेवरी सर्विस भी शुरू की है। इसके तहत टिकट बुक होने के साथ ही आपके टिकट को एसएमएस या ई-मेल द्वारा डिजिटली डिलीवर कर दिया जाता है। इसका पेमेंट आपको टिकट बुकिंग के 24 घंटे के अंदर करनी होती है। (आभार भास्कर)

 



अन्य खबर